सूत्रों के हवाले से मिली खबर के अनुसार दुनिया का सबसे बड़ा E-Commmerce स्टोर वालमार्ट भारतीय E-Commmerce स्टोर फ्लिपकार्ट के साथ ऑनलाइन बाजार में 51 प्रतिसत से ज्यादा की हिस्सेदारी का एक सौदा कर सकता है.

भारतीय बाजार में अमेज़न की बढ़ती हुई बिक्री और साथ में जैसे अमेज़न ने पूरा बाजार में पाव फैलाने जा रहा है उस परिस्थिति को देखते हुए फ्लिपकार्ट ने अमेरिका के रिटेल बाजार के दिग्गज वॉलमार्ट के साथ हिस्सेदारी शेयर किया है.

जहां ईकॉमर्स के बाजार में कुछ एक दशक में $ 200 बिलियन तक बढ़ने लगा है।

सॉफ्टबैंक का भी फ्लिपकार्ट के साथ पहले से ही विजन फंड के माध्यमसे साझेदारी है यानिकि पाचवे हिस्से का मालिक है. हलाकि सॉफ्टबैंक अपने हिस्सेदारी का एक हिस्सा बेचने को तैयार नहीं था क्युकी वॉलमार्ट 12 अरब डॉलर के मूल्यांकन पर मौजूदा शेयर खरीदने की पेशकश कर रहा था.

सॉफ्टबैंक अलीबाबा ने Paytm Mall में किया 3000 Cr का निवेश

सूत्रों के हवाले से पता चला है की सॉफ्टबैंक और फ्लिपकार्ट के बिचमें यह स्टेलमेंट को सुलझा दिया है, हलाकि सॉफ्टबैंक अपने शेयर बेचने को तैयार नहीं था लेकिन बादमे वो फ्लिपकार्ट से अपने कुछ सहरे बेचने को तैयार हो गया था.

Flipkart Business Deal with wallmart

वॉलमार्ट के साथ नयी बिज़नेस डील के अनुसार फ्लिपकार्ट के साथ 18 बिलियन डॉलर इक्विटी होने की सम्भावना है.

हलाकि इससे पहले ऐसा बताया गया था की वॉलमार्ट और फ्लिपकार्ट के बिचमें 10 बिलियन डॉलर से 12 बिलियन डॉलर के बीच 51% या अधिक खरीदने का प्रस्ताव दिया था।

साथ में कुछ यह भी माहिती मिली है की सोफे हो चूका हाउ लेकिन सबकुछ फाइनल होने में अभी मई महीने के पहले सप्ताह तक जा सकता है.

सूत्रों के मुताबिक अगर वॉलमार्ट अपने शेयर खरीदते हैं, तो फ्लिपकार्ट के मुख्य निवेशकों में से कुछ – यूएस हेज फंड टाइगर ग्लोबल मैनेजमेंट, दक्षिण अफ्रीकी तकनीकी निवेशक नास्पर्स और उद्यम पूंजी फर्म एक्सेल ko पूरी तरह से बाहर निकलने की संभावना है।